फरीदाबाद : 4 महीने बीतने के बाद भी मुझेडी और नीमका में हुए भ्रष्टाचार में पुलिस के हाथ खाली

Featured Video Play Icon
Share This

विकास ओहल्याण। फरीदाबाद


फरीदाबाद के गांव मुझेडी और नीमका में हुए भ्रष्टाचार के मामले को आप भूले तो नहीं होगे जिसमें जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए सरपंच, ठेकेदार और पंचायत सेक्ट्री और ग्राम सचिव के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू की हुई है। लेकिन मामले को 4 महीने से भी अधिक का समय बीत चुका है और अभी तक पुलिस के हाथ खाली हैं हालांकि इसी मामले को लेकर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें ग्राम सचिव खुद अपने मुंह से सारे गुनाहों को कबूल कर रहा है। लेकिन इसके बावजूद भी पुलिस अपनी आंखों पर पट्टी बांधे बैठी है। दिखाई दे रहा है यह वीडियो उसी आरोपी ग्राम सचिव का है जिसके ऊपर भ्रष्टाचार का मामला चल रहा है लेकिन 4 महीने बीत जाने के बावजूद भी किस तरीके से यह पुलिस और जिला के आला अधिकारियों को गुमराह करता जा रहा है। हालांकि इस वीडियो में ग्राम सचिव परमजीत ने अपने सारे गुनाहों का कबूलनामा किया है और इसमें साफ तौर से जिला प्रशासन को कहा कि यदि किसी में दम है तो उसके किए गए भ्रष्टाचार के पैसों को निकाल कर दिखाएं। वहीं साथ ही साथ इस आरोपी ने यह भी कबूल किया कि पंचायती राज में नीचे से लेकर ऊपर तक तमाम आला अधिकारी खुलेआम रिश्वत लेते हैं। जिसके चलते यह पूरी सांठगांठ जिले के बैठे कई बड़े मंत्रियों तक जाती है। इसी का फायदा उठाकर इस तरीके के भ्रष्टाचार करने वाले आरोपी साफ तौर से कानूनी दांवपेच केलकर निकल जाते हैं और गरीबों और आम जनता का पैसा डकार कर मौज मस्ती करते हैं आपको बता दें कि इसी ग्राम सचिव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला भी चल रहा है लेकिन इस तरीके के आरोपियों को भी राजनीतिक संरक्षण प्राप्त होने के बावजूद पुलिस और आला अधिकारी इनके खिलाफ कुछ भी नहीं कर पाते और इसी का फायदा उठाकर यह लोग सरेआम भ्रष्टाचार फैलाते रहते हैं

हालांकि इस पूरे मामले को लेकर जब तिगांव एसीपी सुरेंद्र से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उन्होंने कई बार पंचायती राज के अधिकारियों को इस पूरे मामले के दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए कहा लेकिन इसके बावजूद भी वह लोग पूरे दस्तावेज पेश नहीं कर रहे इन सब चीजों से साफ जाहिर है कि इस पूरे भ्रष्टाचार के मामले में आला अधिकारी भी संलिप्त है

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *