अम्बाला : धर्म, मजहब एवं जाति-पाति की दीवारें तोड़कर ही भारत बनेगा विश्वगुरु : ओंकार सिंह

Featured Video Play Icon
Share This
  • धर्म, मजहब एवं जाति-पाति की दीवारें तोड़कर ही भारत बनेगा विश्वगुरु : ओंकार सिंह
  • अव्वल अल्लाह नूर उपाइआ कुदरत के सब बन्दे, एक नूर ते सब जग उपजिया कोंन भले कोंन मंदे 

राजेन्द्र भारद्वाज। अम्बाला


ईद के मुबारक मौके पर अपने मुस्लिम भाइयो को मुबारकबाद देने के लिए इनैलो प्रदेश प्रवक्ता ओंकार सिंह चुना चौक अम्बाला छावनी स्तिथ जामा मस्जिद पहुंचे एवं इमाम साहिब मौलाना मोहम्मद असगर कासमी समेत सभी भाइयों को ईद-उल-अज़हा की मुबारकबाद दी। देश और प्रदेश वासियों को ईद-उल-अज़हा की तहेदिल से शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहाकि ईद-उल-अज़हा जिसे बकरीद भी कहा जाता है, दो शब्दों के मेल से बना है। ईद अरबी भाषा का शब्द है जिसका मतलब है खुशी और कुर्बानी को अरबी भाषा में अज़हा कहते है। हम सब एक पिता की ही संतान हैं ” एक पिता ऐक्स के हम बालक “, चाहे उसे अल्लाह कहो, राम कहो, वाहेगुरू कहो या फिर गॉड। आज देश और प्रदेश में कुछ साम्प्रदायिक ताकते धर्म एवं जाति के नाम पर ओच्छी राजनीति करके एक विशेष तबके की वोट लेने के लिए समाज को बांटने और उसमे जहर घोलने का कार्य कर रही है परंतु भारत के प्रबुद्ध एवं समझदार नागरिकों की समझदारी के कारण समाज मे प्रेम-प्यार, सौहार्द एवं भाईचारा कायम है। हमारे सविधान में सभी धर्मो को समानता के आधार पर आंका गया है और जहाँ सविंधान में सभी नागरिकों को अपनी इच्छानुसार धर्म अपनाने की स्वतंत्रता है वही यह भी स्पष्ट है कि भारत का राजधर्म कोई नही है। सरकार सभी धर्मो का समान आदर एवं सम्मान करने के लिए वचनबद्ध है। हमे भी सभी धर्मो का आदर-सम्मान करना चाहिए और समाज मे प्रेम, प्यार एवं भाईचारा मजबूत करने के लिए हर सम्भव प्रयास करना चाहिए। संसार मे सब से बड़ा धर्म इंसानियत का है और हम सब किसी भी धर्म के धर्मानुयायी होने से पूर्व इंसान हैं। आज अगर किसी मरीज को इलाज दौरान खून की जरूरत पड़ती है तो बिना जाति और धर्म की पूछताछ किये सर्वप्रथम मरीज को खून चढ़ाया जाता है ताकि उसकी जान बचाई जा सके। जिस दिन हम सब इस वाक्य को अपनी जीवन का हिस्सा बना लेंगे की ” अव्वल अल्लाह नूर उपाइआ कुदरत के सब बन्दे, एक नूर ते सब जग उपजिया कोंन भले कोंन मन्दे ” उस दिन भारत को विश्वगुरु बनने से कोई नही रोक पाएगा। ईद के इस मुबारक मोके पर हम सब को संकल्प लेना चाहिये कि विघटनकारी एवं संप्रदीयकतावादी ताकतों का समूल नाश करने के लिए एकजुट होकर देश और प्रदेश की प्रगति एवं विकास के लिए कार्य करेंगें।

Share This

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *